any content and photo without permission do not copy. moderator

Protected by Copyscape Original Content Checker

रविवार, 10 जुलाई 2011

लो फिर हो गया एक रेल हादसा..............


10 जुलाई को दोपहर फतेहपुर जिले के मालवा में कालका मेल की 14 बोगियां पटरी से उतर गईं । दोपहर 12.20 बजे यह हादसा इमरजेंसी ब्रेक लगने की वजह से हुआ। रात को 12 बजे तक हादसे में करीब 200 लोगों के घायल होने व 35 के मरने की खबर सीएमओ फतेहपुर से प्राप्त हुई है...

रेल मंत्रालय की कमान इन दिनों भारत के परम मनहुस प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के हाथ में है,,,,,,ध्यान देने की बात ये है कि रेल मंत्रालय पहले ममता बनर्जी के हाथ में थी....लेकिन ममता के बंगाल की सीएम बन जाने के बाद अब वह रेल मंत्री की कुर्सी अपनी पार्टी के किसी नेता को दिला सकती थीं.......लेकिन वह अपने बराबर का कद अपनी पार्टी में किसी का नहीं देखना चाहती.....इसलिए रेलमंत्रालय की कमान मौनी बाबा अर्थात मनमोहन सिंह के हाथ में आते ही देश को परिणाम भुगतना पड़ गया...इसमें प्रधानमंत्री का कोई दोष भले ही नही दिख रहा है.....लेकिन जैसा कि तमाम न्यूज चैनल्स पर इस समय खबरें आ रही हैं....कि लोग ट्रेन में तड़प रहे हैं.....रेल प्रशासन तेजी से कार्यवाही नही कर पा रहा है.....एयर एंबुलेंस की व्यवस्था नही है,,,,,,तो किसको दोष दिया जाए...........कल तक जो राहुल गांधी किसानों के बीच जाकर चिल्ला रहे थे.,,,,,आज घायल यात्रियों के लिए उनके मुंह से दो शब्द तक नही निकल रहा है,,,,,,,,कहां है राहुल......इस घटना के बाद की पुरी जिम्मेदारी मनमोहन और स्वार्थी ममता बनर्जी की है.....जिस ममता ने अपनी पार्टी में अपना कद मेनटेन रखनें के लिए अपने पार्टी के किसी सदस्य को रेल मंत्री नही बनने दिया,,,,,,,,,,,मनमोहन एक मनहुस सख्स हैं...वो तो राहुल गांधी के हाथों अपनी कुर्सी खोने के टेंशन में मर रहे है.....घायल रेल य़ात्रीयों की क्या परवाह करेंगे.....भ्रष्टाचार के मामले में मजबूर हैं......तो आज कौन सी मजबुरी है कि रेल मंत्रालय का अतिरिक्त भार ढो रहे हैं...और यात्रीयों को मरने के लिए छोड़ दिया है,,,,,,,

1 टिप्पणी:

  1. Some major train accident during Nitish Kumar tenure(2001-04)-

    On 21 July 2001, the Mangalore Mail commuter train heading for Chennai was crossing the Kadalundi River in the state of Kerala near Calicut on Bridge 924, when four carriages derailed and fell into the river.



    On 9 September 2002, Howrah-New Delhi Rajdhani Express derailed at 2240 hrs near Rafiganj station between Gaya and Dehri-on-Sone stations, resulting in over 500 dead



    On 15 May 2003, fire breaks out in Golden Temple Mail at 3.55 hrs between Ludhiana and Ladhowal stations, resulting in 36 deaths and 15 injuries.


    On 22 June 2003, the train engine and first four coaches of Karwar–Mumbai central Holiday Special derailed and capsized at about 21.15 hrs.52 persons lost their lives and 26 others were injured.


    On 2 July 2003, Golconda Express derailed at Warangal station at 10.25 hrs. 21 persons were dead and 24 injured.



    16 June 2004 Matsyagandha express Mangalore to Mumbai derails when striking a huge boulder on Konkan railway line; 14 dead, the boulder was concussed but survived.


    Did you think Nitish was a "मनहुस" rail minister?

    उत्तर देंहटाएं