any content and photo without permission do not copy. moderator

Protected by Copyscape Original Content Checker

बुधवार, 27 अक्तूबर 2010

Shopian ight again

Shopian ight again

If the Central Bureau of Investigation (CBI) has already pronounced its verdict on the Shopian double rape and murder case ruling out both the rape and murder of the victims why did the interlocutors meet the affected family? The question has generated suspense among the observers after the interlocutors’ panel on Kashmir visited Shopian yesterday, reportedly on the instructions of Prime Minister Manmohan Singh and Home Minster P Chidambaram.
While justice still eludes the family of Asiya Jan and Neelofar, allegedly raped and murdered by men in uniform in May 2009, the interlocutors’ visit to Shopian hasn’t enthused anyone—not even Shakeel Ahmad Ahanger, the husband of Neelofar and brother of Asiya Jan who told the media that he had “no expectations” from them.
If their visit to the area has done anything, it has renewed the focus on the gruesome case which triggered massive protests across Kashmir, leading to a CBI probe. “I was surprised to read that the interlocutors met the family of the Shopian victims when the Central government itself has closed the case and failed to ensure justice to the victims,” said a political scientist, insisting not to be named.
“It indicates that the case still haunts the Government of India, given the fact that it marked the beginning of unrest in the Valley when the present government led by Omar Abdullah took over.” In December 2009, the CBI filed a charge sheet against 13 people including six doctors and lawyers for allegedly “fabricating” evidence in the aftermath of the recovery of two bodies. The CBI informed the Jammu and Kashmir High Court that a charge sheet had been filed before a Chief Judicial Magistrate against 13 people for allegedly creating false evidence and witnesses.
But notwithstanding the verdict, which was duly endorsed by the state government, the interlocutors’ panel led by journalist Dilip Padgaonkar visited Shopian on Tuesday and met Shakeel Ahanger.“The Home Minister is well aware of all the facts about the rape and murder case, which was hushed up by the CBI. The culprits are roaming free while the victims were made the culprits,” Shakeel told the interlocutors, who had to leave the place in a state of dismay, though they reportedly told him that they had been sent by the Prime Minister and Home Minister to get “their side of the story.”
A member of the Majlis-e-Mashawarat, which is fighting for justice to Shopian victims, questioned why the government of India was bothered about “their side” of the story when the facts were known to all.“So far countless agencies and organizations visited Shopian to ascertain the facts. But at the end, the CBI gave clean chit to the accused and made victims appear like culprits. Now which side of the story does the GOI want to hear? Some credible agencies have already reported that rape and murder took place. But the GOI has been in the state of denial,” the member said. “This is just adding salt to the injuries of the victims’ relatives and family. Either the GOI must ensure justice to the families, which it doesn’t seem to be interested in, or it must not send people to hear the stories which it ultimately ignores.”
It is not only the interlocutors’ visit but a statement by noted writer and Booker Prize winner Arundhati Roy that has renewed focus on Shopian tragedy. “Yesterday I travelled to Shopian, the apple-town in South Kashmir which had remained closed for 47 days last year in protest against the brutal rape and murder of Asiya and Nilofer, the young women whose bodies were found in a shallow stream near their homes and whose murderers have still not been brought to justice. I met Shakeel, who is Nilofer’s husband and Asiya’s brother. We sat in a circle of people crazed with grief and anger who had lost hope that they would ever get Insaf—justice—from India, and now believed that Azadi—freedom— was their only hope,” she said in a statement yesterday.
Pertinently, an autopsy report had confirmed that the women were raped and the government-appointed commission said that four police officers were involved in destroying some of the key evidence following which they were suspended and arrested. The case was then handed over to CBI which concluded that the women “died of drowning”—a ruling which evoked severe protests in Kashmir after being rejected by one and all, including Majlis-e-Mashawarat.
The drowning theory corroborated the Chief Minister Omar Abdullah’s initial statement on the case, though he later said he had been misled by the Shopian district administration and police.
The Delhi-based Independent Women’s Initiative for Justice (IWIJ), which had sent its team to the valley on a fact finding mission, in its report said that the Jammu and Kashmir government was involved in a major hush-up of the case. The report argued that as for “accidental drowning of the two women in the nallah (stream), where no one in recent or living memory has ever drowned, we would need to be more than merely credulous to believe that”.
The IWIJ said that during its team’s visit to Shopian in August 2009 it found that the water in the stream was only ankle-deep -- not enough for anybody to drown in it.
In September this year, the state government reinstated the four police officials allegedly involved in the incident.

गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

Bihar wants only development, not a face of nepotism

Bihar wants only development nothing else. The day of election divided into six phase and before starting of ruling and ruler war their peoples has been cleared, we are going with progresses of bihari and bihar. They are saying,we never want to go any other zone for feed up their want but condition of state not more good so we could not stay a long here. India most of state has own resources due to their fellows spends a good life better than us.A point to be essential which always swirls into our mind, that is when bihar and jharkhand separate to each other that year our government said "1000 thousand crore rupee provides to bihar but now many year past that could not come to hand why ?? ". BJP OUT congress in and then after vajpei ji announcing could not get a space cause is congress disappear. although now a judgment of result come into the hand of here aawam and they prefer whom, who really love him. Rahul Gandhi can not our ideal because he is a face of nepotism....please do not make a part of this fabrication and drop your vote after thinking.

बुधवार, 20 अक्तूबर 2010

विहार में पहले चरण का चुनाव 21 अक्तूबर को

विहार में पहले चरण का चुनाव 21 अक्तूबर को
तमाम आरोपों प्रत्यारोपों के बीच 20 अक्तूबर को आखिरकार चुनाव प्रचार खत्म हो गया. बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान के लिए सभी दलों ने शंखनाद किया. कोसी-सीमांचल क्षेत्र में 21 अक्तूबर से होने जा रहे पहले चरण के चुनाव में विकास मुख्य मुद्दा रहा. वर्तमान नीतीश सरकार विकास के नाम पर लोगों से वोट जुटाने में लगी रही तो वहीं कांग्रेस और राजद-लोजपा गठबंधन ने विकास कहा हुआ के नारे के साथ नीतीश एनडीए गठबंधन को घेरते नजर आए. गौरतलब है कि इस क्षेत्र में कोसी बाढ़ आपदा के समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जो काम किया था उसे अभी तक यहां के लोगबाग नहीं भूले होंगे. लेकिन उनके हाथों हुए एक गुनाह को भी यहां की जनता अभी तक भूल नहीं सकी है और वों था, इस क्षेत्र के दिग्गज नेता जगन्नाथ मिश्र के सुपुत्र नीतीश मिश्र को बिना कसूर के पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाना. इस कारण भी यहां के सवर्ण वोट खासकर ब्राह्मण शायद इनसे खफा है और इस चुनाव में वों अपना रंग दिखा सकते हैं. हालांकि चुनाव के मद्देनजर सबे के मुखिया ने अपनी गलती को सुघार का जामा पहनाते हुए एक बार फिर नीतीश मिश्र को गले लगा लिया है. फिर भी उनके द्वारा किए जाने वाले अवसर बाद की राजनीति को सीमांचलवासी अच्छी तरीके से समझ चुके हैं. अबकी सामाजिक, आर्थिक,मुद्दों के साथ-साथ स्थानीय मुद्दें जैसे कि बिजली,पानी बेरोजगारी भी चुनाव पर अपना रंग बिखेरने को तैयार है. जदयू-भाजपा गठबंधन की ओर से 55 बनाम 5 साल की तरक्की का नारा पूरे बिहार में तेजी के साथ गूंज रहा है. बिदित हो कि कोस-सीमांचल क्षेत्र के जिन 47 सीटों के लिए चुनाव होने जा रहे हैं, उनसे 28 सीटों पर एनडीए का ही कब्जा रहा है. लेकिन इस दफा चुनावी समीकरण साफ नहीं होने के कारण कुछ भी कहना मुश्किल है कि कौन इस क्षेत्र में फतह हासिल करेगा और कौन पराजय का मुंह देखेगा. कांग्रेस के पास खोने को तो कुछ भी नहीं है मगर पाने के लिए बहुंत कुछ है. अगर इस बार कांग्रेस यहां मुसलमान वोट हासिल करने में सफल रही तो इसका सबसे बड़ा खामियाजा अगर किसी को भुगतना पड़ेगा तो वह है जेडीयू-भाजपा गठबंधन को. राहुल गांधी कांग्रेस के स्टार प्रचारक रहें हैं, जिन्होंने उत्तर प्रदेश लोक सभा चुनाव के दौरान अपना जलावा दिखाया था. इसके अलावा प्रधानमंत्री और कांग्रेस सुप्रीमों सोनिया के किशनगंज रैली ने जरूर नीतीश के नीव को हिलाने का काम किया है. आनंद मोहन, लवली आनंद, पप्पू यादव सरीखे नेता के कांग्रेस के साथ चले जाने से सभी चुनावी समीकरण बिगड़ता नजर आ रहा है. पिछले साल एनडीए की रणनीति बनाने वाले किशोर कुमार मुन्ना के निर्दलीय चुनाव लड़ने से राजपूतों का वोट भी खिसकता नजर आ रहा है. जेदयू के दो यादव चहरे बिजेंद्र यादव और दिनेश चंद्र यादव के आपसी रस्सा-कशी के कारण भी वर्तमान सरकार को नुकसान झेलना पड़ सकता हैं. यदि बात करें शरद यादव की तो उनका प्रभाव केवल मधेपुरा तक ही सिमटा है. अति पिछड़े वोटों का लाभ एनडीए को मिल सकता है,बशर्ते वे लोग मतदान केंद्र तक पहुंचे. नीतीश की महादलित खेमे का लाभ जरूर उनके पक्ष में जायेगा, मगर सवाल यह है कि क्या केवल इनके आने से चुनावी समीकरण बदल जाएंगे. किशनगंज में कांग्रेस का दबदबा कायम है, इसका जीता जागता सबूत है सोनिया की रैली, लेकिन नीतीश ने भी कांग्रेस के घर में सेंध डालने के उदेश्य से मुसलमान वोट को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए इलाके के दिग्गज नेता तस्लीमुद्दीन को अपने साथ जोड़ लिया है, जिससे जरूर नीतीश मजबूत स्थिति बनाने में सफल नजर आ रहे हैं, मगर एक बाद साफ है कि नीतीश के इस कारनामें से उनका साथी दल भाजपा कतई खुश नहीं हैं. इसका कारण यह कि भाजपा शुरू से ही तस्लीमुद्दीन का विरोद्ध करती आई ही ऐसे में यदि उसका साथी ही उसे गले लगाने के लिए आतुर है तो वह बेचारा आखिर क्या कर सकता है. बहादुरगंज और ठाकुरगंज में बीजेपी के अधिकार क्षेत्र में आता है, जहां वह एक तरफे वोट से बिजयी होता रहा है. इन क्षेत्रों में बीते 15 साल से अपना अधिकार जमाए राजद को पिछले विधानसभा चुनाव में करारा हार का सामना करना पड़ा था, फिलहाल मई को वापस अपने साथ जोड़ने के उदेश्य से लालू भी ऐड़ी चोटी का दम लगाए हुए है. यादव और मुसलमान वोट के समीकरण के बुते ही लालू राबड़ी 15 सालों तक बिहार को अपने कब्जे में किए रहें. इसके परे यदि बात करें लोजपा की तो हालही में हुए लोकसभा चुनाव में नेस्तनाबूत पासवान ने तो यहां तक कह दिया है कि सत्ता में आए तो उपमुख्यमंत्री एक मुसलमान को ही बनायेंगे. ऐसे तो बिहार की राजनीति पर किसी प्रकार का कोई टिप्पणी देना मुश्किल है कि अबकी सत्ता किसके पक्ष में जा रहीं हैं. लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि विकास के बल पर सरकार का निर्माण होगा तो एक बार फिर नीतीश ही दिखेंगे. यहां की राजनीतिक सरजमी पर विकास कम जाति फेक्टर ज्यादा अहम होता है, इसलिए तो उम्मीवारों की सूची भी इलाकों की आबादी और जाति की बाहुलता को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई हैं. जाति की दृष्टिकोण से बात रखी जाए तो सीमांचल क्षेत्रों में मुसलमान की संख्या अधिक है साथ ही इस इलाके में यदि कोई बाहुबल है जो सारे समीकरण का फेरबदल कर सकते है तो वह है भूमिहार जो बिहार की सत्ता के असल मालिक होते हैं. ब्राह्मण भी सक्रिय है लेकिन वे आपसी रस्सा-कशी में ही मशगूल रहते हैं. राजपूत की रणनीति कभी भी साफ तौर पर सामने नहीं उभर पाती है कि वे किसके साथ है. कुल मिलाकर बिहार विधानसभा चुनाव में दिग्गजों का सम्मान दांव पर लगा हुआ है. पासवान चारों खाना चीत होने के बाद एक बार फिर खड़ा होना चाहते हैं, वहीं दूसरी ओर लालू मई को वापस हासिल करने के लिए कुछ भी करने को तैयार डटे हुए है. नीतीश के साथ उनका विकास दौड़ रहा है तो भाजपा इमेज सुशील मोदी और सीपी ठाकुर खुद को असल निर्णायक सिद्ध करने में जुटे हुए है.
एक नजर बिहार विधानसभा चुनाव के असल सफलता के मानकों पर......
चुनाव छह चरणों में होंगे –पहला चरण 21 अक्तूबर को 47 सीटों के लिए, दूसरा चरण 24 अक्तूबर को 45 सीटों के लिए, तीसरा चरण 28 अक्तूबर 48 सीटों के लिए, चौथा चरण 1 नवंबर को 42 सीटों के लिए, पांचवा चरण 35 सीटों के लिए, छटा और अंतिम चरण 26 सीटों के लिए, इसके साथ ही 24 नवंबर को परिणाम सामने आएंगे.
कुल विधानसभा सीट - ( 243 ), रिर्जव एस सी - 38, रिर्जव एस टी - 02, कुल मतदाता - 5.5 करोड़, वर्तमान जंनसख्या - 8,28,78,796, इसमें से पुरूष जंनसख्या - 4,31,53,964, महिला जंनसख्या - 3,97, 24, 832,
साक्षरता – 47.52 प्रतिशत
प्रकाश पाण्डेय

गुरुवार, 14 अक्तूबर 2010

दीदी की दुर्गा झांकी

कोलकाता , रेल मंत्री न एक प्रखर राजनेता हैं बल्कि एक गायिका व चित्रकार भी हैं और कविता पाठ भी करती हैं। दुर्गा पूजा का समय नजदीक आ रहा है और अब उन्होंने दुर्गा की मूर्तियां गढ़ने और उनकी सजावट के लिए समय निकाल लिया है।तृणमूल प्रमुख ममता 'बाकुल बागान सार्बोजनिन दुर्गा उत्सव' में शामिल हो गई हैं। यह संस्था उनके दक्षिणी कोलकाता के कालीघाट स्थित घर के समीप दुर्गोत्सव का आयोजन करेगी। उत्सव के आयोजनकर्ताओं ने उनका नाम सजावट के लिए पेंटिंग करने वाले चित्रकारों की सूची में शामिल किया है।
आयोजनकर्ताओं का कहना है कि ममता पूजा स्थल की सजावट और मूर्तियों के लिए पेंटिंग बना रही हैं। उनके साथ कुछ ऐसे लोग भी हैं जो उनके विचारों को कार्यरूप दे सकें। 'बाकुल बागान सार्बोजनिन दुर्गा उत्सव' के अध्यक्ष असित घोष ने बताया, "अरुण कुमार, दीदी (ममता बनर्जी) के बनाए डिजाइंस के आधार पर मूर्तियां बनाएंगे। उन्होंने खुद अरुण को चुना है क्योंकि वह कालीघाट में उनके घर के नजदीक ही रहते हैं।"घोष ने बताया, "हमने एक स्थानीय कलाकार को उनके बनाए डिजाइंस के आधार पर दुर्गा की झांकी सजाने का काम सौंपा है। झांकी के लिए अंडाकार शामियाना बांस और तिरपाल से बनाया जाएगा और उसे दीदी की पेंटिंग्स से सजाया जाएगा।"ममता के नजदीकी एक नेता ने बताया, "पूजा का विषय 'महाकाल' (एक पौराणिक काल जो जीवन की उत्पत्ति के पहले शुरू हुआ था और अब तक जारी है।) की अवधारणा पर आधारित होगा।" ममता 11 अक्टूबर को इस संस्था के दुर्गा उत्सव की शुरूआत करेंगी। यह शुरुआत देवी दुर्गा की वार्षिक 5 पूजा आरंभ होने से तीन दिन पहले ही हो जाएगी।

क्लिक----- क्लिक

आज सुबह जब घर से निकला तो कोई खबर नही मिल रही थी...... नजर दीवार पर लगे इस बोर्ड की महान विभूतियों पर गई .....यह सभी हमारा हाथ आम आदमी के साथ जैसे नारों का प्रतिनिधित्व करते नही थकते..... आज आम आदमी हाशिये पर है..... महंगाई ने उसका जीना मुहाल कर लिया है ..... यह स्केच भी इसी की बानगी दिखा रहा है ..........

नव दुर्गा के अवसर पर अपने मोहल्ले की गलियों में इसे सजा रखा है अभिषेक नाम के एक युवक ने... आज जब मेरी नजर इस बोर्ड पर गई तो सारा मोहल्ला कैमरे के सामने आने लगा ....टी वी में अपनी तस्वीरे देखने का मन किसे नही होता.... आज नजारा देखकर लगा मीडिया से लोग चमत्कार की उम्मीदे क्यों करते है ....

स्केच है यू पी ऐ और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी का जिनको चोर उच्चका गठबंधन का अध्यक्ष बताया गया है....... शायद यह महंगाई का डंक है........

यह मनमोहन नही कुम्भकरण सिंह है........इनके पास बर्बादी विभाग है...... गरीबो को नही जीने देने की कसम इन्होने खायी है.........

इससे नीचे की तस्वीर में यह है हमारे देश के दुलारे कृषि कम क्रिकेट मंत्री शरद पवार जिनको अनाज की कोई परवाह नही है.....वह कहते है न मैं कोई ज्योतिष तो नही हूँ जो कह सकू महंगाई कम हो जाएगी..................

छमा प्रार्थी हू ..... पिछले एक महीने से ब्लॉग पर कुछ नया नही लिख पाया...... आज से नई पोस्ट की शुरुआत कर रहा हू......आशा है आप निराश नही होंगे..... बीते एक महीने से बहुत व्यस्त लाइफ चल रही है....दिन हो या रात हो फुर्सत ही नही हो पा रही थी.... प्रोपर ६ घंटे नीद भी नही ले पा रहा था....ऊपर वाले से दुआ करूँगा ऐसी व्यस्त लाइफ वह किसी को भी न दे..... व्यस्त होने की वजह पर फिर कभी बात होगी.......
"अथातो घुमक्कड़ जिज्ञासा " बचपन में हिंदी के अध्यापक कालोनी जी ने राहुल सांकृत्यायन की लेखन शैली के बारे में पदाया था .... इसका असली महत्व अब समझ में आ रहा है जब पत्रकारिता के फील्ड में रहकर खबरों की खोज खबर कर रहा हूँ.....पत्रकारिता में एक फंडा है किसी भी व्यक्ति के पास नोज फॉर न्यूज़ होनी चाहिए ....लेकिन कट , कॉपी ,पेस्ट के जमाने में आज खबरे दम तोड़ रही है....
आजकल तो फील्ड में जाने से पत्रकार कतराने लगे है ... एयर कंडिशनर रूमों में बैठकर खबरे चुराने का चलन चल पड़ा है ...डोट कॉम की अधिकतर पत्रकार यही सब कर रहे है... आम आदमी उनके भी हाशिये पर है...पेज थ्री वाली खबरों से फुर्सत मिल सके तब तो आम आदमी की बात हो पायेगी....... ऐश्वर्या के प्रेग्नेंट होने को तरजीह देने से आम आदमी से जुडाव रखने वाली खबरे अटकी रह जाएँगी ॥

अभिषेक के पडोसी तो इस काम की सराहना कर ही रहे थे साथ ही उसके मोहल्ले में दुर्गा जागरण के अवसर पर महंगाई डायन का जागरण हो रहा है.... कीमते इतनी तेजी से बदती जा रही है कि लोगो का जीना मुश्किल होता जा रहा है .... एक देवी ने मुझे बताया अगर यही सब रहा तो लोगो का अगले चुनाव में कांग्रेस से भरोसा उठ जायेगा......
वैसे लोगो का भरोसा सरकार से उठने लगा है ॥ तभी एक महिला ने मुझसे बातचीत करते हुए कहा कि सरकारे कीमते कम करने की दिशा में कोई ठोस कदम नही उठा रही है.... अगर यह सब होता तो आज दैनिक उपभोग की चीजे इतनी महंगी नही होती......कालाबाजारी और वायदा का कारोबार ही इतना ज्यादा है कि सरकार जमाखोरों पर अंकुश नही लगा सकती......
शरद पवार जैसे मंत्री तो पूरे साल के ३६५ दिनों में से ३६ दिन अपने मंत्रालय को दे पाते है ... बचे दिन वह क्रिकेट की यात्राओं में लगा दिया करते है .....ऐसे में क्या होगा हमारे किसान का.... ? वह तो आत्महत्या करेगा ही.......बेचारी पीपली लाइव भी लोगो को आत्महत्या करने से नही रोक पा रही है .... मध्य प्रदेश में भी अब किसान आत्महत्या की मामले बढ़ते ही जा रहे है॥ कल ही एक गाव के मेहनती किसान से बात हो रही थी... उसने कहा साहब खेती बाड़ी में अब कुछ बचा नही है.... बस हम सब जैसे तैसे अपने दिन काट रहे है.....
कुछ समय पहले पीपली लाइव के "नत्था " से मिलना हुआ .... उसकी तकदीर फिल्म आने के बाद भी नही बदल पायी है.....आज भी उसके पास रहने को खुद का मकान नही है... उसने एक बहुत अच्छी बात कही जो मेरे दिल को छू गई..... उसने कहा मैं नही चाहता कोई नत्था देश में फिर से आत्महत्या करे........लेकिन क्या करे किसान का दर्द आज कोई समझ नही सकता ......उनकी जमीनों को कोडियो के भाव या तो बेचा जा रहा है या उन पर सेज बने जा रही है ... ऐसे में देश की कृषि विकास दर फीसदी फिसड्डी से आगे बद पानी मुश्किल दिखाई देती है ...

(लेखक युवा पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक है .... आप बोलती कलम ब्लॉग पर जाकर इनके विचारो को पढ़ सकते है)

शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

पूर्व छात्रो के जमा होने से खुशनुमा हुआ माखनलाल के परिसर का माहौल

एक तो एम ० फिल० की परीक्षा दूसरे ई ० टीवी ० का कैम्पस , आज दिनभर माखनलाल चतुर्वेदी पत्रिकारिता विश्वविद्यालय में पुराने छात्रो का जमावड़ा रहा । पिछले कुछ दिनों तक विवादों में रहने के बाद आयी शून्यता को दूर करने के लिए इतना काफी था , खास तौर पर बड़ी संख्या में केव्स के छात्रों ने आकर माहौल को काफी खुशनुमा बना दिया छुट्टी का दिन होने के बाद भी विश्वविद्यालय में कोलाहल रहा ।
पिछले दिनों के माहौल ने परिसर की खुशी छीन ली थी , हार कोई ऊब रहा था कुछ लोगो ने तो घर जाने का मन बना लिया था , एक तो रूखा मौसम ऊपर से परिसर के रूखे माहौल से मन में एक अजीब तरह की अशांती थी लेकिन आज एक बार फिर लोग एकदूसरे के गले लगकर एक दूसरे का हल पूछते नजर आये, कैंटीन के बहार पूरा दिन छात्रो का जमावड़ा रहा और शाम कब हो गयी पता ही नहीं चला , आज फिर विभिन्न मुद्दों पर विचार विमर्श हुआ जिसमे कुछ देर तो पिछली बाते केंद्र में रही लेकिन फिर अयोध्या मामले से लेकर बिहार चुनाव तक कई विषयो पर बहस हुयी , अयोध्या मामले के निर्णय को स्वागत योग्य बताते हुए लोगो ने निष्कर्ष निकला की अब मीडिया को इस विषय को छोड़ देना चाहिए , लोगो ने कहा की रोज रोज इस विषय पर बहस सामाजिक सोहार्द को विगड़ सकता है । कुछ लोगो ने तो यह भी कहा कि अब इस विषय पर कुछ भी न तो लिखा जाने चाहिए न ही दिखाया जाना चाहिए । विभिन्न विषयों पर सार्थक बहस के बीच बीच में लोग उन लोगो के बारे में भी जानकारी जुटते रहे जो नहीं आये थी या कही काम कर रहे थे । अयोध्या मामले पर लोगो ने आपना अनुभव बताते हुए कहा कि निर्णय के बाद वो कहा कहा गए और लोगो कि क्या प्रतिक्रिया रही ? कुलमिलाकर परिणाम यह निकला कि देश का आम आदमी इस निर्णय से खुश है वाह चाहे जिस समुदाय का हो।
आज कि इस सार्थक बहस ने हमारे खोये मनोबल को फिर वापस लाने का काम किया और एक बार फिर पढाई के ओर मन आकर्षित हुआ । लेकिन दुःख इस बात की है कि लोग अभी तक एक अच्छी नौकरी के लिए प्रयासरत ही है लेकिन खुसी कि बात यह है कि उनका मनोबल बढ़ा हुआ है और अपने पर पूरा भरोसा है ,आज नहीं तो कल लेकिन अच्छी शुरुवात करेंगे ।
हमारे लिए यही सब काफी था, और एक बार फिर पुराना माहोल बनाने में हमारे अग्रजो की जो भूमिका रही उसके लिए वो धन्यबाद के पात्र है । परिसर में दिग्गजों के जमावड़े ने माहौल तो खुशनुमा तो किया ही साथ ही छुट्टी के दिन भी राजू की काम से काम १०० चाय बिक गयी लगभग हार १५ मिनट के बाद कोई न कोई नया सीनियर आता था और आते ही सबसे पहले चाय का आदेश देता था ।
कहते है बीता हुआ दिन लौट कर नहीं आता लेकिन हमलोगों के लिए एक बार फिर बीता दिन लौट आया , हा कुछ अग्रज जो नहीं आये उनकी कमी जरूर खली लेकिन यह सुनकर संतोष हो गया की काम कर रहे है ।