any content and photo without permission do not copy. moderator

Protected by Copyscape Original Content Checker

बुधवार, 5 जनवरी 2011

कसम हमने भी खायी है.....

उधर भिखारी भी मंत्री बनकर -घोटाला करके राजा कहलाते हैं.....
इधर  मेहनत करने वाले गरीब  (राजा ) लोग महंगाई के कारण भिखारी बन जा रहे हैं.....
गुनहगार कौन है.....मनमोहन सिंह ,
                                            नही वो तो इमानदार हैं......
                      ......राहुल गाँधी...
                                            नही वो तो युवराज है......
                      .......तुक्का मत लगाओ.....गुनहगार भारत की वो जनता है जिसने ......
                         इन घोटालेबाजो को पहचानने में गलती की और अपना वोट दिया.......
                       जागो-जागो-
                                       सोचो और खो..... ऐ मेरे देश तुझे क्या दूँ......चल तुझे मै क्या दे पाउँगा ....मेरे लहू का एक एक कतरा तेरा है....तेरे काम आ जाए........               

1 टिप्पणी:

  1. mitr bhut hi achha likha hai wakye tu sacha desh bhakt hai bhrat mata ka sar jhuka sakte hai lekin kalam jhuka sakte nahi ................

    उत्तर देंहटाएं