any content and photo without permission do not copy. moderator

Protected by Copyscape Original Content Checker

रविवार, 12 सितंबर 2010

भला हिजड़ों के राज में भी राम मंदिर का निर्माण हो सकता है क्या...........हाँ कोशिश करना पड़ेगा इसलिए सभी राम भक्तों से निवेदन है की हनुमान चालीसा पढ़े....जिससे हमारे सभी भाइयों को सदबुद्धि आये ......और राम जी का भव्य मंदिर अयोध्या में बने......जय श्री राम......



२२ जुलाई २००८ को भरी लोकसभा में अशोक अर्गल, फगन सिंह कुलस्ते और  महावीर भगौरा द्वारा  नोटों की गद्दी उछाली गयी थी ....बीजेपी वालों का कहना था की कांग्रेस और सपा वालों ने उनके सांसदों को मनमोहन सरकार के पक्ष में वोट डालने के लिए ये नोट भेजे थे...जबकि कांग्रेस और सपा ने आरोप लगाया की ये नोट खुद बीजेपी के सांसदों  ने ही लाये हैं ...और एक सीडी के बारे में भी चर्चा चली थी की स्ट्रिंग आपरेशन हुआ है और सबूत इसी सीडी में है....जिसे सांसदों के विशेषाधिकार के कारण जनता को नही दिखाया गया .....सब कुछ जनता के सामने हुआ...टीवी...पे लाइव दिखाई दिया ....मगर संसद में कुछ हिजड़े जरुर हैं वे चाहें कांग्रेस में हो चाहें किसी अन्य दल  में ...जिन्होंने....दोषियों  को बचा लिया.....ऐसे हिजड़ों के राज में राम मंदिर का निर्माण कैसे सम्भव है........इस लिए राम मंदिर का निर्माण हनुमान जी की कृपा से ही सम्भव है....इसलिए सभी राम भक्तों से निवेदन है की हनुमान चालीसा पढ़े....जिससे हमारे सभी  भाइयों को सदबुद्धि आये ......और राम जी का भव्य मंदिर अयोध्या में बने......जय श्री राम......

3 टिप्‍पणियां:

  1. श्री गुरु चरन सरोज रज
    निज मन मुकुर सुधार
    बरनउ रघुबर विमल जसहुं
    जो दोयक फल चारु....

    सिया वर राम चन्द्र की जय
    मेरे प्रभु राम चन्द्र की जय ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhai pahle apne purane raam mandir ka haal to ek baar dekh aao jab purani sanskriti ko hee nahi bacha pa rahe hain to naya naya kya chilla rahe hain bhavisya ke 200 varsho ka extra kooda raam kee paidi me mauzood hai ,poori traasdi kee tasveer ban gayee hai ayodhya.vanha ke log vivaad nahi chaahte baahri kaise daava kar rahe hain..aapki policy bhee ram bharose lag rahee hai kripya bhaavna me bah kar nahi kuch soch kar tark me dhaal kar aavaaj uthaayen jis par aapko sahi pratikriya mil sake.bhraamak sthiti se se sabhee ko nuksaan hoga..

    उत्तर देंहटाएं
  3. achchhee alakh jagne ki koshish kee hai aapne lekin bahut had tak aapka byatigat aakrosh lagta hai. vaise aap bade bhai hai lekin apanee or se ek salah dena chahunga ki vivadit sabdo ke pryog se bache. aur kisee sanstha ka prachar na kare to shyad badee siddat se sab aapke sath khade rahenge.thoda patrakaro ki trah likhe to khushee hogee.

    उत्तर देंहटाएं